लगातार पड़ती ठंड से सूर्य देवता भी हो रहे नदारद

Modinagar । सर्दी का सितम कम होने का नहीं ले रहा है। ठिठुरने से बचने के लिए लोगों द्वारा अलाव का सहारा लिया जा रहा है। वहीं कोहरा व बादलों के छाए रहने से दिन में शाम का अंधेरा रहने से सड़कों पर वाहन रेंगते हुए नजर आ रहे हैं।
सर्दी से अभी राहत मिलती नहीं दिख रही है। सुबह से ही गलन शुरू हो जाती है। इससे गर्म कपड़ों में भी लोगों को राहत नहीं मिल रही है। प्रचंड सर्दी के बीच सूर्यदेव भी कोहरे की चादर लपेटे छिप गए हैं। चार दिन से धूप के दर्शन तक नहीं हुए हैं। बर्फीली हवाएं ऐसी चुभ रही हैं कि घर से बाहर निकलना मुश्किल हो रहा है। बच्चों का बाहर खेलना बंद हो गया है। मोदीनगर, पतला, निवाड़ी, फरीदनगर व अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में लोग अलाव के सहारे सिमट कर रह गयें है।
बढ़ी रूम हीटर की मांग
सर्दी से बचने के लिए लोग सुबह से ही अलाव का जलाकर बैठ जाते हैं। लकड़ी महंगी होने से अलावों को जला पाना भी हर किसी के बस की बात नहीं रह गई है। शहर से लेकर देहात तक जिंदगी अलाव के सहारे ही सिमट कर रह गई है। घरों में रूम हीटरों को जलाकर सर्दी से बचने का प्रयास किया जा रहा है। सर्दी के बढ़ने से हीटरों का बाजार गर्म हो गया है। दुकानों में रूम हीटर की मांग बढ़ गई है।
सर्दियों में भले ही अन्य दुकानें ठंडी पड़ी हों मगर मूंगफली व गजक का बाजार गर्म है। दुकानों के अलावा सड़कों सहारे फड़ लगाकर बैठे फुटकर विक्रेताओं के यहां दिनभर मूंगफली व गजक की जमकर खरीदारी हो रही है। इस साल मूंगफली 100 से 150 रुपये प्रति किलोग्राम तक बिक रही है। वहीं गुड़ व तिल से बनी गजक 200 से 400 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गया है।
गर्म कपड़ों की खूब हो रही खरीदारी
सर्दियों के मौसम में गर्म कपड़ों की खरीदारी बढ़ गई है। पिछले कुछ साल में जनवरी बीतते-बीतते गर्म कपड़ों की खरीदारी घटने से सेल शुरू हो जाते थे, मगर इस बार अभी भी गर्म कपड़ों का कारोबार पीक पर है। शहर में गोविन्दपुरी, नेवाली बाजार, गुरूद्वारा रोड़ व अपर बाजार गुलजार दिख रहे हैं। सहालग को लेकर भी बाजारों में खरीदारी बढ़ी है। 20 जनवरी से वैवाहिक आयोजन शुरू हो रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Live Updates COVID-19 CASES
%d bloggers like this: