Govardhan : प्राचीन राधाकुंड नगर पंचायत लोगों की अपेक्षाओं का शिकार नहीं हो पा रही है साफ सफाई नहीं मिल पा रहा है शुद्ध पानी

 

विश्व प्रसिद्ध पवित्र तीर्थ स्थान गोवर्धन धाम से 3 किलोमीटर उत्तर में स्थित प्राचीन धार्मिक स्थान जिसका पौराणिक उल्लेख है भगवान श्री कृष्ण की प्रेयसी राधा रानी के नाम से संसार में विश्व विख्यात है इस स्थान पर राधा कुंड एवं श्याम कुंड नाम के 2 प्राचीन कुंड है जिसमें कार्तिक मास में अघोरी अष्टमी के दिन निसंतान दंपति संतान की इच्छा से मध्य रात्रि में स्नान करते हैं तो राधा रानी की कृपा से संतान प्राप्त होती है।

राधा कुंड धाम के पूर्व कार्यवाहक चेयरमैन वरिष्ठ अधिवक्ता के सी कोड द्वारा लिखित में अपनी गांव की दुर्दशा का जिक्र करते हुए बताया है कि राधा कुंड क्षेत्र में आम जनता गंदा पानी पीने के लिए मजबूर है सफाई भी नहीं हो पा रही है गांव की विडंबना है कि नगर पंचायत में अनपढ़ चेयरमैन चुने जाने के कारण राधा कुंड की स्थिति बदहाली के कगार पर है वर्तमान समय में कोरोना संक्रमण के कारण राधा कुंड में साफ-सफाई की व्यवस्था होना आवश्यक है तथा शुद्ध पेयजल उपलब्ध होना चाहिए जिससे कि आम जनता को कोराना जैसे संक्रमण से बचाया जा सके राधा कुंड में विश्व पटल के देश विदेश से आने वाले अनेकों देसी विदेशी श्रद्धालु भक्त राधा कुंड में निवास करते हैं उनकी भी समुचित जांच आदि समय-समय पर होनी चाहिए नगर पंचायत राधाकुंड द्वारा घोर उदासीनता के कारण आम जनमानस मूलभूत समस्याओं के लिए लॉक डाउन में जूझ रहा है लेकिन राधा कुंड नगर पंचायत प्रशासन एवं उसके कर्मचारी उचित ढंग से अपने कर्तव्य का निर्वाह नहीं कर रहे हैं अगर इसी तरह चलता रहा तो समस्याओं के संबंध में उच्च स्तरीय कार्यवाही करने के लिए आंदोलन करने के लिए ग्राम वासियों को बाध्य होना पड़ेगा चौक दुर्भाग्यवश राधा कुंड का यह दुर्भाग्य है के चेयरमैन के पद पर एक विवेक अनपढ़ नीति गत कार्य ना होने के कारण राधा कुंड नगर पंचायत एवं गांव की यह दुर्दशा है।

डॉ केशव आचार्य गोस्वामी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Live Updates COVID-19 CASES
%d bloggers like this: