Govardhan : निस्वार्थ भाव की समाज सेवा के लिए एक नया नाम भूरा पहलवान, ग्राम आन्यौर का युबा समाज सेवक

यहाँ कोरोना लॉक डाउन के चलते कई गरीबों को अपना पेट भरने में परेशानी हो रही ऐसे में कई समाज सेवी गरीबो को खाना और राशन बाँटने का काम कर रहें वहीँ कुछ गरीब फ़ोटो खिंचवाने की वजह से उन लोगो से राशन लेने में झिझकते हैं, इसी बीच मथुरा के गोवर्धन कस्वे के आन्यौर गाँव के उन गरीबो की सूचना पर भूरा पहलवान पुत्र भक्खो सिंह निवासी ग्राम आन्यौर ने अपने पैतृक जमीन का तीन बीघा खेत के गेहूं को आटा बनबाकर उन गरीबों को बाटने का निर्णय लिया।

वही उन गरीबो के घर जा, जाकर ऐसे गरीबो की सूची तैयार की जिनको रियल में राशन की जरूरत है और दिन छुपते ही अचानक उन गरीबो के दरवाजे पर चुपके से राशन पहुचाने का काम सुरु किया जैसे जेसे लोग शाम को अपने दरवाजे बन्द करके घर में अंदर पहुच जाते तभी भूरा पहलवान अपने अन्य साथियो के साथ उन गरीब के दरवाजे पर राशन रख कर दरवाजा बजा कर वहाँ कहीं छुप जाते, अचानक दरबाजे पर राशन देख कर जरूरत मंद के चेहरे खिल उठते और भगवान का धन्यवाद करते हुए चुपके से ऐसे दान करने वाले को शुभ आसीस देकर घर में अंदर चले जाते।

असल में दान तो यही है की एक हाथ से दो तो दूसरे हाथ को पता भी न चले, भूरा पहलवान अब तक अपने खेत से 60 कुंटल गेहूं को वहार पिसवा कर और कुछ को अपने घर मे पिशकर दान कर चुके हैं और अभी भी उनकी ये सेवा चालू है। साथ ही साथ ऐसे गरीब परिवारों में यहां पानी की बड़ी समस्याएं होती थी वही निस्वार्थ भाव से गाँव मे बोरिग कराकर ट्यूबल लगबाया है और उससे गरीबो को घर घर पानी भी पहुँचाने का काम किया ऐसे समाज में युबा भूरा पहलवान ने एक अच्छी पहचान बनाई है अपने गांव में और समाज के लोगो ने उनको बधाई का पात्र कहा।

डॉ केशव आचार्य गोस्वामी 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Live Updates COVID-19 CASES
%d bloggers like this: