Cyclone Amphan: तेजी से आगे बढ़ रहा अम्फान तूफान

चक्रवाती तूफान अम्फान आज यानी बुधवार को दोपहर तक पश्चिम बंगाल और ओडिशा में दस्तक देने को तैयार है। महाचक्रवात तूफान अम्फान करीब 185 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से समुद्री तटों से टकराएगा। आशंका जताई जा रही है कि दोपहर से लेकर शाम तक सुपर साइक्लोन अम्फान विकराल रूप धारण कर सकता है और बड़ी तबाही मचा सकता है। फिलहाल, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में तेज हवा के साथ बारिश देखने को मिल रही है। साथ ही समुद्र में लहरें भी उठ रही हैं। कुछ महत्वपूर्ण बातें अम्फान के बारे में-

1. कोरोना वायरस संकट के बीच में अम्फान किसी बड़े आफत से कम नहीं है। प्रशासन ने पहले ही चेतावनी दे दी है कि अम्फान का विकराल रूप न सिर्फ फसलों को बर्बाद करेगा, बल्कि सार्वजनिक संपत्तियों और जान-माल का भी बड़ा नुकसान कर सकता है।

2. तूफान अम्फान का असर पश्चिम बंगाल और ओडिशा में दिखना शुरू हो गया है। बंगाल और ओडिशा में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू हो गई है। इतना ही नहीं, समुद्र में हाईटाइड भी जारी है। मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी दे दी गई है और तटीय इलाकों के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है।

3. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने कहा है कि पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर, दक्षिण और उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली और कोलकाता जिले प्रभावित हो सकते हैं। जबकि ओडिशा के तटीय जिलों जगतसिंहपुर, केंद्रापाड़ा, भद्रक, जाजपुर और बालासोर में भारी वर्षा और तूफान आएगा।

4. अम्फान की तबाही मुख्यरूप से भारत के पश्चिम बंगाल और ओडिशा में ही देखने को मिलेगी। मगर माना जा रहा है कि सिक्किम, असम और मेघालय पर भी इसका असर पड़ सकता है।

5. सोमवार को 700 किलोमीटर तक फैले और लगभग 15 कि. मी. ऊंचाई वाला चक्रवात अम्फान अपने केंद्र में 220 से 230 कि. मी. प्रति घंटे की गति से घूम रहा था। चक्रवात के कारण पश्चिम बंगाल में गंगा के आस-पास वाले इलाकों और उत्तर तटीय ओडिशा इलाकों में भी बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। यह 20 मई को उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम और 21 मई को असम और मेघालय में भारी से बहुत भारी वर्षा का कारण बनेगा।

6. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के प्रमुख एस.एन. प्रधान ने मंगलवार को कहा कि आपात स्थिति से निपटने के लिए पश्चिम बंगाल और ओडिशा में बल की कुल 41 टीमों को तैनात किया गया है। अम्फान से प्रभावित होने वाले दो राज्य ओडिशा और पश्चिम बंगाल में एनडीआरएफ की कुल 41 टीमों को तैनात किया गया है। ओडिशा के सात जिलों में एनडीआरएफ की 15 टीमों को तैनात किया गया है और पांच टीमों को तैयार रखा गया है जबकि पश्चिम बंगाल के छह जिलों में 19 टीमों को तैनात किया गया है जबकि दो टीमों को तैयार रखा गया है।

7. अम्फान ओडिशा में 1999 में तूफान के बाद दूसरा चक्रवाती तूफान है। वह ऐतिहासिक रूप से सबसे तीव्र चक्रवाती तूफान था। 1999 के सुपर साइक्लोन ने करीब 9,000 से अधिक लोगों की जान ले ली थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Live Updates COVID-19 CASES
%d bloggers like this: