साइबर ठगो ने ढूंढा ठगी का नया तरीका, अब स्कूली छात्रों से वैक्सीन के बहाने ले सकते है ओटीपी

मोदीनगर। माध्यमिक विद्यालयों में कक्षा नौवीं से 12वीं कक्षा के 15 से 18 वर्ष आयु के विद्यार्थियों को वैक्सीन लगाई जा रही है। अब वैक्सीन लगवाने वाले विद्यार्थियों को आनलाइन माध्यम से साइबर सुरक्षा का ज्ञान भी कराया जाएगा। माध्यमिक विद्यालयों में लगभग 80 से 85 फीसद वैक्सीनेशन का काम पूरा हो चुका है। इनको बताया जाएगा कि मोबाइल पर कोई भी ओटीपी भेजे तो उसको साझा न करें।
विद्यार्थियों के पास अपने या परिजनों के मोबाइल हैं। परिजन के बैंक खातों से उनके मोबाइल नंबर भी लिंक हैं। विभागीय अफसरों को मिली जानकारी के अनुसार विद्यार्थियों के मोबाइल पर साइबर ठग वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) भेज सकते हैं। कहा जा सकता है कि उनकी वैक्सीनेशन रिपोर्ट गलती से पहुंच गई है। ओटीपी आया है उसको बता दें तो वे अपनी रिपोर्ट प्राप्त कर लेंगे।  कुछ स्थानों पर  कोविड-19 की रिपोर्ट गलती से मोबाइल पर जाने की बात कहकर ठगी की जा चुकी है। शिक्षा विभाग द्वारा प्रधानाचार्यों व शिक्षकों से कहा जा रहा है कि वैक्सीन लगवाने वाले विद्यार्थियों को आनलाइन माध्यम से जानकारी उपलब्ध करा दें कि मोबाइल पर किसी भी प्रकार की ओटीपी संबंधी या अन्य जानकारी किसी से साझा न करें। इस संबंध में अगर विद्यार्थियों व अभिभावकों के मोबाइल पर संदेश भी भेजने पड़ें तो इस प्रक्रिया को अमल में लाया जाए। साथ ही अभिभावकों को भी इस संबंध में जागरूक करें। जिससे किसी भी अप्रिय स्थिति से बचा जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Live Updates COVID-19 CASES
%d bloggers like this: