डोनाल्ड ट्रंप और जो बाइडन (फाइल फोटो)- India TV Hindi

Image Source : AP
डोनाल्ड ट्रंप और जो बाइडन (फाइल फोटो)

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन को 31 मार्च को ‘ट्रांसजेंडर डे ऑफ विजिबिलिटी’ घोषित करने के कारण पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की चुनाव प्रचार अभियान टीम और धार्मिक रूढ़िवादियों को आलोचना का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि इसी दिन ‘ईस्टर संडे’ भी है।  डेमोक्रेटिक पार्टी से ताल्लुक रखने वाले राष्ट्रपति जो बाइडन ने शुक्रवार को यह घोषणा करते हुए कहा था, “सभी अमरीकियों को हमारे देश में ट्रांसजेंडर लोगों के जीवन को सुधारने, उनकी आवाज को उठाने और लैगिंग पहचान के आधार पर हिंसा एवं भेदभाव को खत्म करने की दिशा में हमारे साथ मिलकर काम करना चाहिए।’’ इस साल 31 मार्च को ईस्टर भी पड़ रहा है, जो ईसाई समुदाय के सबसे पवित्र त्योहारों में से एक है। ट्रंप खेमे ने ईसाई धर्म के रोमन कैथोलिक पंथ को मानने वाले बाइडन पर धर्म के प्रति असंवेदनशील होने का आरोप लगाया और रिपब्लिकन पार्टी ने इसका समर्थन किया।

सवालों में बाइडन प्रशासन 

ट्रंप के चुनाव प्रचार अभियान की प्रेस सचिव कैरोलीन लेविट ने शनिवार को कहा, “हम जो बाइडन के चुनाव प्रचार अभियान दल और व्हाइट हाउस से मांग करते हैं कि वह अमेरिका के उन लाखों कैथोलिक और ईसाइयों से माफी मांगे, जो मानते हैं कि कल (रविवार) केवल एक बात का जश्न मनाने का दिन है और वह है यीशु मसीह का पुनर्जीवित होना।’’ उन्होंने बाइडन प्रशासन द्वारा ईसाई धर्म पर कथित रूप से वर्षों से किए जा रहे हमले को लेकर भी आड़े हाथों लिया। 

क्या बोले रिपब्लिकन नेता

अमेरिकी संसद की प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष एवं रिपब्लिकन नेता माइक जॉनसन ने सोशल मीडिया पर कहा कि व्हाइट हाउस ने ईस्टर के अहम सिद्धांत के साथ विश्वासघात किया है और बाइडन के निर्णय को “अपमानजनक और घृणित” कहा है। बाइडन श्रद्धापूर्वक प्रार्थना सभा में भाग लेते हैं और अपनी कैथोलिक परवरिश को अपनी नैतिकता और पहचान का मुख्य हिस्सा मानते हैं। उन्होंने 2021 में वेटिकन में पोप फ्रांसिस से मुलाकात की थी। एपी 

यह भी पढ़ें:

…तो ऐसे सुधरेंगे पाकिस्तान के आर्थिक हालात, PM शहबाज शरीफ ने रेड कारपेट कल्चर पर लगाई रोक

आतंकी हमले के बाद रूस की दो टूक, कहा ‘भारत के साथ मिलकर आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में निभाएंगे बड़ी भूमिका’

 

Latest World News

By upnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *