JNUSU Elections Result 2024: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्याल (JNU)छात्र संघ के चुनाव में एक बार फिर से वामपंथी संगठनों ने बाजी कैंपस में जीत का अपना परचम लहरा दिया है. चारों सीटों पर लेफ्ट ने ही बाजी मारी है. खास बात यह रही है कि चार साल के बाद छात्र संघ चुनाव में जबरदस्त वोटिंग हुई. 12 साल के बाद 2024 के छात्र संघ चुनाव में 73 फीसदी वोट दर्ज की गई. जेएनयू स्टूडेंट्स यूनएन में आइसा के धनंजय को नया प्रेसिडेंट चुना गया है. धनंजय ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के उमेश चंद अजमीरा को 922 वोटों से हराया. इस बार कोरोना के कारण चार साल के बाद जेएनयू में स्टूडेंट यूनियन के चुनाव हुए. ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन के धनंजय को 2598 मत मिले जबकि एबीवीपी के इमेश अजमीरा ने 1676 मत हासिल किए.

बिहार से हैं नए प्रेसिडेंट धनंजय
जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष चुने गए धनंजय बिहार के गया जिले के रहने वाले हैं. धनंजय दलित समुदाय से आते हैं. 1996-97 में बत्ती लाल बैरवा के जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन के अध्यक्ष चुने जाने के बाद धनंजय पहली बार दलित अध्यक्ष बने हैं. चुनाव परिणाम की घोषणा होते ही लेफ्ट विंग के छात्र जबरदस्त नारेबाजी करने लगे. पूरे जेएनयू में सफेद और ब्लू झंडे लहराने लगे. लाल सलाम और जय भीम के नारे से पूरा कैंपस गुंजायमान हो गया. धनंजय के अलावा वाइस प्रेसिडेंट के पद पर एसएफआई के अविजीत घोष ने बाजी मारी है. घोष ने एबीवीपी की दीपिका शर्मा को 927 वोटों से हराया. घोष को 2409 मत मिले जबकि दीपिका शर्मा को 1482 मत मिले.

बाप्सा कैंडिडेट प्रियांशी भी जीतीं
बिरसा आंबेडकर फुले स्टूडेंट्स एसोसिएशन बाप्सा की लेफ्ट समर्थित कैंडिडेट प्रियांशी आर्या ने जनरल सेक्रेटरी के पद पर चुनी गईं. उन्होंने एबीवीप के अर्जुन आनंद को 926 मतों से हरा दिया. आर्या को 2887 मत मिले जबकि आनंद ने 1961 मत हासिल किए. दरअसल, महासचिव पद के लिए चुनाव समिति ने यूनाइटेड लेफ्ट की उम्मीदवार स्वाति सिंह की उम्मीदवारी को रद्द घोषित कर दिया था. इसके बाद लेफ्ट ने प्रियांशी को अपना पूरा समर्थन दे दिया. संयुक्त सचिव के पद पर लेफ्ट के उम्मीदवार मोहम्मद साजिद ने एबीवीपी के उम्मीदवार गोविंद डांगी को 508 मतों से हराया. चारों सीटों में इसी सीट पर सबसे कम जीत का मार्जिन रहा.

एबीवीपी ने दी सभी सीटों पर कड़ी टक्कर
हालांकि इस बार भी जेएनयू में लेफ्ट ने अपना जनाधार बचाए रखा लेकिन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने इस बार जबरदस्त टक्कर दी. चारों सीटों पर मुख्य प्रतिद्वंद्वी एबीवीपी के उम्मीदवार ही रहे. हर सीट पर एबीवीपी उम्मीदवार ने कड़ी टक्कर दी. यूनाइटेड लेफ्ट में कई दलों के छात्र संघ शामिल हैं. इनमें ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन-आइसा, डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फेडरेशन-डीएसएफ, स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया-एसएफआई और ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन -एआईएसएफ शामिल हैं. जेएनयू में शुक्रवार 22 मार्च को छात्र संघ का चुनाव हुआ था. इस बार 12 साल बाद वोट का प्रतिशत 73 रहा.

Tags: Former JNU student, Jnu, Students

By upnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *